BestGhazals.NET: Read Urdu poetry in Roman English, Urdu and Devnagari Hindi

BestGhazals.NET: Read Urdu poetry in Roman English, Urdu and Devnagari Hindi

Search BestGhazals

Saturday, August 22, 2020

Ameer Imam's poetic tribute to Imam Husain's martyrdom in the battle of Karbala

Eminent poet Ameer Imam hails from Sambhal, a historic town in Western UP.

He has emerged as a major poetic voice from the region and has a carved a niche for himself in  Urdu poetry, in a short time. A deep understanding of Islamic history--from Siffin to Karbala, and circumstances that led to the battle of Karbala, are needed to understand some of the couplets. 
Read this 'Salaam', a poetic tribute to Imam Husain's martyrdom, in Roman and Devnagri scripts, below.

उठाए नेज़ों पा क़ुरआन एहतमाम के साथ
खड़े हैं लोग अभी तक अमीरे शाम के साथ

कहीं सबील कहीं आंसुओं की शक्ल लिये
फ़रात बहती है आज एक तिश्नाकाम के साथ

यज़ीद आज भी दरबार की हदों में असीर
हुसैन आज भी आज़ाद हैं अवाम के साथ

कुछ और बढ़ गई रंगे हुसैन की सुर्ख़ी
मिली जो जौन के रंगे सियाह फ़ाम के साथ

वो ज़र ख़रीद मुअर्रिख़ पिछड़ गए तुझसे
ना चल सके तिरे रहवारे बर्क़ गाम के साथ

सिखाया तेरी शहादत ने बोलना सब को
ये मारेका हुआ आग़ाज़ इख़्तेताम के साथ

मुतालेबा करो औरत के हक़ का दुनिया से
रिदाए हज़रते ज़ैनब के इंतेक़ाम के साथ

हुसैन हो गये‌ सेराबे जाविदां उस दिन
शराबे तिश्नादहानी के एक जाम के साथ

उठाए लाशे जवां लड़खड़ाते क़दमों से
दवाम वक़्त ने पाया तिरे दवाम के साथ

हमारा नाज़ से कहना अमीर इमाम हैं हम
कि अपने नाम को निस्बत है तेरे नाम के साथ

अमीर इमाम

uThaaye nezo.n pe Quran, ehtemaam ke saath
khaDe hai.n log abhi tak Amir-e-Shaam ke saath

kahii.n sabiil, kahii.n aans.uo.n ki shakl liye
Faraat, bahti hai aaj ek tishna-kaam ke saath

yazeed aaj bhi darbaar ki hado.n mei.n aseer
Husain aaj bhi aazaad hai.n awaam ke saath

uThaye laash jawaa.n laDkhaDate qadmo.n se
dawaam, waqt ne paya, tere dawaam ke saath

sikhaaya teri shahaadat ne bolna sab ko 
ye moarka hua aaghaz, ekhtitaam ke sath

voh zar khareed mo'arrikh pichhaD gaye tujh se
na chal sake tere rahwaar-e-barq-gaam ke saath

hamaara naaz se kahna, Amir Imam hai.n ham
ke apne naam ko nisbat hai tere naam ke saath

Ameer Imam

Popular Posts