BestGhazals.Net

BestGhazals.Net
Read SHAYRI of Best Urdu Poets including Ghalib, Momin, Iqbal, Jigar, Josh, Majaz, Faiz, Parvin Shakir & Ahmad Faraz in Urdu, Roman and Hindi scripts at this BLOG.

Sunday, March 23, 2008

Best Urdu couplets--I


Following are ten couplets in Roman, Urdu and Devanagri (Hindi) scripts.



















अब के जुनून मैं फासला शायद न कुछ रहे
दामन के चाक और गिरेबां के चाक में
(मीर तकी मीर)

खुदा के वास्ते उसको न टोको
यही एक शहर मैं क़ातिल रहा है
(मिर्जा मजहर जान-ऐ-जानां)
कुछ तो होते हैं मोहब्बत मैं जुनून के आसार
और कुछ लोग भी दीवाना बना देते हैं
(गुलाम हमदानी 'मुस.हफी')

न छेड़ ऐ निकहत-ऐ-बाद-ऐ-बहारी राह लग अपनी
तुझे अटखेलियाँ सूझी हैं, हम बेजार बैठे हैं
(इंशा)

तेरी सूरत से किसी की नहीं मिलती सूरत
हम जहाँ में तेरी तस्वीर लिए फिरते हैं
(इमाम बख्श 'नासिख')

अब तो घबरा के ये कहते हैं कि मर जायेंगे
मर के भी चैन न पाया तो कीधर जायेंगे
(जौक)

मेहरबान हो के बुला लो मुझे चाहो जिस वक्त
मैं गया वक्त नहीं हूँ कि फिर आ भी न सकूँ
(गालिब)

तड़पती देखता हूँ जब कोई शै
उठा लेता हूँ अपना दिल समझ कर
(तसलीम)

बुत को बुत और खुदा को जो खुदा कहते हैं
हम भी देखें कि तुझे देख के क्या कहते हैं
(दाग़ देहलवी)

ये बज्म-ऐ-मैं है, यहाँ कोताह-दस्ती मैं है मह्रूमी
जो बढ़ कर ख़ुद उठा ले हाथ मैं मीना उसी का ही
(शाद अजीमाबादी)

ab ke junuuN meN faasla shaayad na kuchh rahe
daaman ke chaak aur girebaaN ke chaak meN
(Mir Taqi Mir)

Khudaa ke vaaste usko na Toko
yahii ek shahar meN qaatil rahaa hai
(Mirza Mazhar Jaan-e-JaanaaN)

kuchh to hote haiN mohabbat meN junuuN ke aasaar
aur kuchh log bhii diivaanaa banaa dete haiN
(Ghulam Hamdaani 'Mus।hafi')

na chheD aye nikhat-e-baad-e-bahaarii raah lag apnii
tujhe atkheliyaaN sujhii haiN, ham bezaar baiThe haiN
(Insha)

terii suurat se kisii kii nahiiN miltii suurat
ham jahaaN meN terii tasviir liye phirte haiN
(Imam Bakhsh 'Nasikh')

ab to ghabraa ke ye kahte haiN ki mar jaayenge
mar ke bhii chain na pyaa to kidhar jaayenge
(Zauq)

meherbaaN ho ke bulaa lo mujhe chaaho jis waqt
maiN gayaa waqt nahiiN huuN ki phir aa bhii na sakuuN
(Ghalib)

taDaptii dekhtaa huuN jab koi shai
uThaa letaa huuN apnaa dil samajh kar
(Taslim)

but ko but aur Khudaa ko jo Khudaa kahte haiN
ham bhii dekheN ki tujhe dekh ke kyaa kahte haiN
(DaaGh Dehlvi)

ye bazm-e-mai hai, yahaaN kotaah-dastii meN hai mahruumii
jo baDh kar Khud uThaa le haath meN miinaa usii kaa hai
(Shaad Azimabadi)