BestGhazals.Net

BestGhazals.Net
Read SHAYRI of Best Urdu Poets including Ghalib, Momin, Iqbal, Jigar, Josh, Majaz, Faiz, Parvin Shakir & Ahmad Faraz in Urdu, Roman and Hindi scripts at this BLOG.

Saturday, January 26, 2008

Munawwar Rana's best Urdu couplets: A selection from his poetry


Munawwar Rana is one of the most popular poets among the masses as well as classes in the present era. Read some of his famous couplets:

हम कुछ ऐसे तेरे दीदार में खो जाते हैं
जैसे बच्चे भरे बाज़ार में खो जाते हैं

नये कमरों में अब चीजें पुरानी कौन रखता है
परिंदों के लिए शहरों में पानी कौन रखता है

मोहाजिरो यही तारीख है मकानों की
बनाने वाला हमेशा बरामदों में रहा

तुझसे बिछड़ा तो पसंद आ गयी बे-तरतीबी
इससे पहले मेरा कमरा भी ग़ज़ल जैसा था


किसी भी मोड़ पर तुमसे वफ़ा-दारी नहीं होगी
हमें मालूम है तुमको यह बीमारी नहीं होगी

तुझे अकेले पढूँ कोई हम-सबक न रहे
में चाहता हूँ कि तुझ पर किसी का हक न रहे

तलवार तो क्या मेरी नज़र तक नहीं उठी
उस शख्स के बच्चों की तरफ देख लिया था

फ़रिश्ते आके उनके जिस्म पर खुश्बू लगाते हैं
वो बच्चे रेल के डिब्बे में जो झाडू लगाते हैं


किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दूकान आई
में घर में सबसे छोटा था मेरी हिस्से में माँ आई


सिरफिरे लोग हमें दुश्मन-ए-जां कहते हैं
हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी माँ कहते हैं

मुनव्वर राणा

hum kuchh aise tere diidaar meN kho jaate haiN
jaise bachche bhare baazaar meN kho jaate haiN


naye kamroN meN ab chiizeN puraani kaun rakhtaa hai
parindoN ke liye shahroN meN paani kaun rakhtaa hai

mohaajiro yahii taariiKh hai makaanoN kii
banaane waalaa hameshaa baraamdoN meN rahaa

tujhse bichhDaa to pasand aa gayii be-tartiibii
isse pahle meraa kamraa bhii Gazal jaisaa thaa

kissi bhii moD par tumse vafaa-daarii nahiiN hogii
hameN maaluum hai tumko yah biimaarii nahiiN hogii


tujhe akele paDhuuN koii ham-sabaq na rahe
maiN chaahtaa huuN ki tujh par kisii ka haq na rahe

talvaar to kyaa merii nazar tak nahiiN uThii
us shaKhs ke bachchoN kii taraf dekh liyaa thaa

farishte aake unke jism par Khushbuu lagaate haiN
vo bachche rail ke Dibbe meN jo jhaaDuu lagaate haiN

kisii ko ghar milaa hisse meN yaa koii dukaaN aaii
maiN ghar meN sabse chhoTaa thaa mere hisse meN maaN aaii


sirphire log hameN dushman-e-jaaN kahte haiN
ham jo is mulk kii miTTii ko bhii maaN kahte haiN

Munawwar Rana